Book Review – The art of being grateful and other stories.

Book Name – The art of being grateful and other stories

Length – 64 Pages

Author – Manali Desai

This book is a collection of short stories and a quick read which has 8 beautiful short stories along with a bonus reading where language is lucid enough for any reader to understand. Let me first tell you that this book is for the readers of all age group.

Cover page and other photos in this book is very creative and beautiful. I would like to mention and appreciate the effort of Khushi Chauhan for this. It is very creative, amazing and thoughtful.

Apart from those 8 short stories, there is something called “bonus reading” which I have throughly enjoyed reading. It was like an icing on the cake. Very thoughtful and a brilliant idea. It shows the different creativity of author.

Out of those 8 short stories, which is based on different story line, background, characters etc, I personally liked “Unlike the the movies” because it was totally a different and a fresh idea, “self- happiness above all” as this is much relatable story in the society and reader can easily connect to them, and “No Witness” because I was speechless the way this was narrated or written. It shows the strong will power of author to develop such a powerful character. Amazing. Simply brilliant!

I liked this line from the book “We’re all so result-oriented and hesitant to take blames.”

It was a great and quick read. Best wishes to author for next book.

Please note that this book is currently available on Kindle Only.

I give 4 🌟/5🌟 to this book.

Cheers!

Subrat Saurabh

10 productive things to do during this pandemic.

Believe it or not but we, the people across the world have been forced to maintain social distancing and most of us are staying home without much choice. Although we always enjoy the company of family and long to get enough time with them, we never imagined to get into such a situation, where too much availability for each other in the family can get stressful sometimes. Maybe, we are missing to get missed, we are probably missing that personal space? Someone has rightly said, “We always want to work from home but never asked for so much work from home”.

Being a social creature and then getting confined to the four walls, sometimes get to the nerves. However, when we do not have a choice to change the situation around, the question arises how to adapt? I would say create a change, a positive change in you and your surroundings.

We can utilise our pandemic time productively in the following ways, without stepping out of our homes:

1. Learn one new technical skill – You don’t need to be a perfectionist or a subject matter expert but learning a new skill will keep your mind fresh and keep you motivated. This is the best way to manage this stressful time.

2. Join a reading challenge on Goodreads. Set reading goals , it does not matter how small this goal is. Go for it! You can track a reading target on Goodreads and connect to many like minded readers. You can read a book of a genre of your taste. 

3. Get into someone else’s shoe. Try to understand what your spouse or parents do during the day. What is their skill set? Learn and spend some time with them to understand their pain area and success story. This will help you to understand someone else’s perspective.

4. Make a note and organise your work. Prepare a to-do list for the next day. Keep a track of all those minor activities like insurance premium payment, electricity bill payment, Internet payment etc so that you don’t miss anything important. Cultivate this habit which is extremely important to lead a disciplined life.

5. Workout at home – Even if you hate doing work out, it’s important to do some light exercise or yoga during this time. You can refer to any yoga tutorials or exercise on YouTube. It’s the best way to get relief from stress and it keeps your nerves calm. It will also build your immunity. 

6. Learn cooking – You know the best part to learn cooking is that you are always more independent than most of those who hate even preparing tea or cooking Maggi noodles. Believe me if you love food you will love cooking and pampering your taste buds.

7. Help the needy – Extend your support to those who are struggling during this pandemic time. You can support them financially and emotionally. 

8. Be active socially – Be in touch with your loved ones through frequent calls, messages and video chat. Stay connected. Share your thoughts with them and speak out. 

9. Keep your surroundings clean – This could be a most boring suggestion but it’s very important to keep ourselves and surroundings clean and stay away from getting infected. This is the utmost need of the hour. If you still feel uninterested repeat the mantra, “Cleanliness is next to Godliness”.

10. Make a plan for the future. Discuss and make a plan to travel or a plan for your professional growth or something like that which you can do as soon as things get normal.

Remember, we have to maintain social-distancing and fight COVID-19 with best of our capacity.

Cheers!

Subrat Saurabh

Be a positive guiding light, to relish illuminating reflections

“I am elated to see the posts of so many parents whose kids have done well in their board exams. Let us acknowledge that it’s not only the effort of kids but also their parents & teachers. Kudos to them for their support and guidance during this tough time.  

Most of us are locked within our premises for the last few months with limited supply of resources and going through a stressful time. We were never prepared for this and hence, never did a drill to handle a pandemic situation. Teachers and parents were going an extra mile to guide and support their kids throughout. Let the kids also understand and appreciate the pain and effort that you have put in and it definitely calls for a celebration. 

I request all the parents to allow their kids to do whatever they want to do in their life. Don’t force them to opt a career of your choice. Let them choose what they want to do. There are numerous options available and they can tap the appropriate opportunity to explore and flourish anywhere. Each kid is a fighter and has a special talent. Let them decide their future and follow their dreams and passions. Let them become an engineer, singer, doctor, artist, comedian, entrepreneur or whatever they want to be. Encourage your kids to channelize their positive energies to achieve their dreams, in what that is for the greater cause. Please don’t let them become too self-absorbed and self-obsessed in their own dreams, work on their character building, vision creation and help them to guide their positive energies in the right direction. Encourage them to root in what’s good and right, and their dreams will surely get wings.

Encourage them to pursue dreams that sharpen and accentuate their natural gifts and talents. Be the guiding light that illuminates their path to self-belief and success. Trust me they will do much better than your expectations. Please get to know your kids and encourage them to follow their dreams with a focused eye. Don’t let the world miss out on all they have to offer.”

“Be a positive guiding light, to relish illuminating reflections”

Cheers!

Subrat Saurabh

शायरी

किस बात का डर है तुम्हें,
ये कैसा ख़ौफ़ है?
एक बार सजदे में सिर तो झुकाओ,
दिल भी मिल जाएगा, दिल लगाने का दौड़ है।❤️

****************

तुम इकरार तो करो इश्क़ की,
‪एक बात तो करो दिल की,
‪हम इतने भी कमज़ोर नहीं की,
‪दुनिया से लड़ न पाए।

****************

‪फ़ासलो ने रिश्तों को कमज़ोर होने न दिया,
‪दिल है मिले हुए,तभी तो भीड़ में हमे खोने न दिया।
‪मुद्दत्तो बाद मिले है आज और आँखें है नम,
‪तुझसे मिलने की ख़ुशी है और बिछड़ने का भी है ग़म।

****************

फ़ासले कभी ये कम हुए नहीं,
मुक़द्दर में कभी तुम हमे मिले नहीं।
कोसता हूँ हर पल उस विदाई के लम्हें को,
जब रोका था तुम्हें पर तुम रूके नहीं।

****************

ज़िंदा तोवो भी है, जो साँस ले रहे है,
ज़ुल्म के आगे सिर झुकाना, जिंदगी तो नहीं ना।

****************

माना की जीत आसान नहीं है,
पर हार कर बैठना तो कोई हल नहीं है।

****************

सब सो रहे है रात की आग़ोश में,
‪कोई हमे भी गोद में पनाह दे दे,
‪कोई थामे हाथ ज़रा मेरा इत्मिनान से,
‪हम भी किसी पर फ़ना हो ले।

****************

जी लेते हम भी तेरे याद के सहारे,
पर यादों के लिए एक मुलाक़ात ज़रूरी है।

****************

हर रिश्ते का एक नाम हो ज़रूरी तो नहीं,
‪हर इश्क़ का हसीन अंजाम हो ज़रूरी तो नहीं,
‪कुछ रिश्ते होते है भूल जाने के लिए,
‪भूलना आसान हो ऐसी मजबूरी तो नहीं।

****************

मैं ख़ुद को कभी अकेला महसूस नहीं करता,
जाने मैं क्यूँ ख़ुद से इतने सवाल करता हूँ?

****************

शहर को जाने क्या हुआ है?
शोर क्यों इतना है?
कल तक गलियों में सन्नाटा था,
आज भीड़ क्यों इतना है?

****************

आशिक हूँ, दिल की बात समझ आती है,
वरना दिमाग़ चलाना हमें भी आता है।
डरते है हसीनों की बेवफ़ाई से,
वरना दिल लगाना हमें भी आता है।

****************

ये मुलाक़ात तस्वीरों में नहीं,
क़िस्सों में कैद होनी चाहिये।
ये शाम क़िस्सों में नहीं,
तस्वीरों में क़ैद होनी चाहिये।

Missing You

क़सम से, तब तुम्हें मेरी याद आती तो होगी ना?

जब भी ख़ुद की तारीफ सुनने का दिल करता होगा,

जब भी बेवजह किसी को सुनाने का मन करता होगा,

जब भी तुम्हें गोल गप्पें खाने का जी करता होगा,

क़सम से, तब तुम्हें मेरी याद आती तो होगी ना?

 

जब तुम अकेले में खाना खाते होगे!

जब रातों में मेरी बाँहों की जगह तकिये से लिपट जाते होगे,

जब रातों में घबराकर उठ जाते होगे!

क़सम से, तब तुम्हें मेरी याद आती तो होगी ना?

 

जब बिस्तर पर तुम्हें कोई भींगा तौलिया नहीं मिलता होगा,

जब जूते भी अपनी जगह रखे मिलते होंगे,

जब हर चीज़ को अपने ठिकाने पर देखते होगे,

क़सम से, तब तुम्हें मेरी याद आती तो होगी ना?

 

जब महफ़िल में भी अकेलेपन से दिल घबड़ाता होगा,

जब अकसर यादों से दिल भर जाता होगा,

जब कोई पास होकर भी नज़रें चुराता होगा,

क़सम से, तब तो तुम्हें मेरी याद आती होगी ना?

                      ~ सुब्रत सौरभ

क्या है “कुछ वो पल” ?

“कौन पढ़ता है आजकल हिंदी में?”
“हिंदी की कविता कौन पढ़ेगा?”

ये सिर्फ़ दो वाक्य नहीं थे? ये एक कोशिश थी की कैसे मेरे हौसलों को पूर्ण विराम लग जाए?

बचपन से ही मुझे लिखने का शौक़ था। मैं बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर शहर से हूँ और कभी सोचा नहीं था की मेरी किताब विश्व भर में उपलब्ध होगी और उसे इतना प्यार मिलेगा। अच्छा लगता है ये सोच कर की जो चीज़ें मैंने देखकर या सुनकर या फिर महसूस कर के लिखी है, वो दुनिया के सामने अंतरराष्ट्रीय तौर पर एक किताब के रूप में आई है। जब पिछले साल कुछ दोस्तों और मेरी पत्नी ने मुझे किताब छापने की सलाह दी तो मुझे हँसी आ गई थी। मगर अब मैं उनके सुझाव का आभारी हूँ।

आख़िर क्या है “कुछ वो पल” और क्या है उन ५० कविताओं का सफ़र? एक युवा लड़के की कहानी है जो कविताओं के क्रम में कही गई है। हम सबने जीवन में कभी ना कभी किसी से प्यार किया है। कभी ये प्यार एक कठिन रास्ता होता है और कभी एक सुखद एहसास, कभी प्यार से बेहद हताशा होती है और कभी गर्व होता है। ऐसे ही बहुत सारे एहसासों को महसूस कर के या देखकर या फिर सुनकर उन्हें कविताओं का रूप दिया गया है।

प्यार के अनेकों अच्छे या मुश्किल पलो को मिला के ये “कुछ वो पल” बन गया।

“वो हज़ारों में एक है, मेरी मोहब्बत का वो इनाम है,
वो इम्तिहान है मेरे सब्र का, इसीलिए चर्चा सरेआम है।”

ये पंक्ति जब लिखी थी तब सोचा नहीं था की ये इतना पसंद किया जाएगा। किताब में लिखी कविताएँ क्रम में छपी ज़रूर है मगर ये उसी क्रम में लिखी नहीं गई थी। अलग अलग माहौल और भावनाओं में गुज़रते और महसूस करते हुए एक-एक कविता को लिखा गया था। कॉलेज के हॉस्टल में बिताए गए पल कों, दोस्तों के साथ रात में बैठी महफ़िल को, ग़ुस्से में प्रेमिका से दोबारा बात न करके की धमकी को, ऑफ़िस के व्यस्त माहौल में त्यौहारों पर घर न जाने वाले ग़म को, प्यार को याद कर के अंधेरे में रोते हुए बिताए गए वक़्त को, बाँहों में बाँहें डाल कर मीठी बातें करने वाले उन लम्हों को अगर आप भूल गए है तो ये मेरी एक कोशिश है की उन पलो को मेरी कविताओं के द्वारा एक बार फिर से आप जी सके। एक बार फिर से महसूस कर के देखिए, अच्छा लगेगा।

ऐसा नहीं है की सभी लोगों ने मेरे किताब को सराहा है। कुछ लोगों को शायद पसंद नहीं आई और उन्होंने आलोचना की। ये ज़रूरी भी है। रचनात्मक आलोचना आपको बेहतर सोचने और लिखने के लिए प्रेरित करता है।

मुझे बेहद ख़ुशी होती है जब अपनी किताब को बेस्ट सेलर के लिस्ट में देखता हूँ या फिर उसे प्रकाशक के वेबसाईट में नम्बर १ पे ट्रेड करता हुआ देखता हूँ। जब पहली बार मेरी किताब Amazon पे “आउट आफ स्टाक” हुई तो लगा की मेहनत सफल हो गई।जब अंजान पाठक आपको फ़ेसबुक और ट्विटर पर ढूँढ के आपके किताब की सराहना करते है तो हौसला बुलंद हो जाता है। सभी दोस्तों और परिवार वालों का भरपूर साथ और प्यार मिला है। सभी लोगों को धन्यवाद। उन लोगो का भी धन्यवाद जिन्होंने मेरे विश्वास और इस सफ़र में अपना साथ नहीं दिया है।

“बात बस इतनी सी हैं, करनी ज़रा ग़ौर हैं,
ज़िंदगी से तू चाहता कुछ है और होता कुछ और हैं।”

ये मेरी पहली किताब है और अपनी दूसरी किताब भी लिख रहा हूँ। कविता अपने आप में एक सफ़र होती है, कभी ना ख़त्म होने वाला सफ़र।

आप मेरी किताब “कुछ वो पल” Amazon/ Flipkart/ Kindle/Notion Press इत्यादि पर ख़रीद कर पढ़ सकते है। साथ ही अपना अनुभव और समीक्षा मुझे बता सकते है।

Amazon का लिंक है – Click here

Flipkart का लिंक है – Click here

Notion Press का लिंक है – Click here

 

गिरे, उठे, फिर चलते चलते हमने मंज़िलें पाई।

किसी ने तंज कसा,
किसी ने पीठ थपथपाई,
यहाँ हर किसी ने अपने तरीके से प्यार दिखाई।

कभी रास्ते भटके,
कभी ठोकरें खाई,
गिरे, उठे फिर चलते चलते हमने मंज़िलें पाई।

सुकून की तलाश मे निकले थे,
तब भी न था और अब भी न है।

मंज़िल पे आके देखा,
चले थे तब तुम तो थे,
पर अब तुम भी न हो।

नये दोस्त, नये हमसफ़र मिले इस सफ़र मे,
कोई तुम सा न है,
कोई तुम सा न था।

आज सब कुछ है,
कल तेरे सिवाय कुछ भी न था,
मगर सच तो ये है की कल कोई तनहा तो न था।

कभी रास्ते भटके,
कभी ठोकरें खाई
गिरे, उठे फिर चलते चलते हमने मंज़िलें पाई

                          ~ सुब्रत सौरभ